Prabhat Chingari
उत्तराखंडजीवन शैली

गोपेश्वर में 85वर्षीय व्यक्ति के कूल्हे की हड्डी का दुर्लभ ऑपरेशन हुआ

Advertisement

ललिता प्रसाद लखेड़ा

गौचर / चमोली:-जिला चिकित्सालय गोपेश्वर में टूटे हुए कूल्हे की हड्डी का दुर्लभ ऑपरेशन चिकित्सकों के द्वारा सफलतापूर्वक किया गया है. यह ऑपरेशन 85वर्षीय व्यक्ति का किया गया है जो हादसे का शिकार हो गए थे।

जिला चिकित्सालय गोपेश्वर में पहली बार टूटे हुए कूल्हे की हड्डी का दुर्लभ ऑपरेशन किया गया है, जो सफल रहा है. डेढ़ घंटा तक चले मरीज के ऑपरेशन के बाद चिकित्सकों को यह कामयाबी हाथ लगी है. दरअसल एक व्यक्ति का हादसे में कूल्हे की हड्डी बुरी तरह डैमेज जो गया था। यहां तक की कूल्हे की हड्डी टूटकर टेढ़ी हो गई। जिस कारण व्यक्ति की हालत खराब हो गई थी। बैठने तक में असमर्थ इस मरीज को उपचार के लिए जिला चिकित्सालय गोपेश्वर में लाया गया। इसकी हालत को देखते हुए चिकित्सकों ने काफी सोच विचार कर ऑपरेशन करने का मन बनाया। ऑपरेशन में जुटी पूरी टीम को उस समय सफलता मिली जब इसका सही तरीके से ऑपरेशन हो गया। टूटे हुए हड्डी को भी ऑपरेशन के जरिए सही कर दिया गया है,ऑपरेशन के उपरांत मरीज को वार्ड में शिफ्ट किया गया है।
चमोली जिले में टूटे हुए कूल्हे का सफल ऑपरेशन से अब मरीज रिकवर कर रहा है। चिकित्सकों को मिली इस कामयाबी की जिला चिकित्सालय प्रबंधन भी जमकर तारीफ कर रही है। जानकारी के मुताबिक पोखरी तहशील, ग्राम सांकरी के 85वर्षीय व्यक्ति नंदलाल को गंभीर हालत में जिला अस्पताल गोपेश्वर लाया गया था। एक दुर्घटना में इनका कूल्हा टूट गया था और यह खड़े होने की स्थिति में भी नहीं थे। अस्पताल पहुंचने के उपरांत चिकित्सक डॉ वैभव नौडियाल अस्थि शल्यक ने इनके ऑपरेशन करने की बात इनके पुत्र सत्येंद्र लाल से कहीं उन्होंने बताया कि जनवरी 2023 को घर के पास छत से फिसलने के कारण इनके पिता का बाया कुल्हा टूट गया था। वे पिता जी को श्रीनगर मेडिकल कॉलेज में इलाज के लिए ले गये। वहां पर चिकित्सकों की टीम ने उनके अत्यधिक उम्र एवं उच्च रक्तचाप के कारण उनके ऑपरेशन हेतु अनफिट कर दिया था। करीब 6 महीने घर में उनके पिताजी बिस्तर पर ही लेटा हुआ रहा उनको दैनिक नित्य कर्मों हेतु अपने परिवार जनों का आश्रित होना पड़ गया था। दर्द भी हो रहा था ,गांव के आशा एवं अन्य लोगों के परामर्श पर चमोली जिले के जिला चिकित्सालय में ऑर्थोपेडिक सर्जन डॉक्टर वैभव नौटियाल से उन्हें इलाज के लिए परामर्श दिया गया । उसके बाद वह अपने पिता को जिला चिकित्सालय गोपेश्वर में इलाज के लिए ले आए । डॉ वैभव नौटियाल अस्थि रोग विशेषज्ञ के परामर्श पर उनके सुपुत्र सत्येंद्र लाल ने अपने पिता के स्वास्थ्य लाभ के लिए ऑपरेशन के लिए तैयार हो गए, जिसमें स्वास्थ्य विभाग के टीम का गठन किया गया। टीम में डॉ वैभव नौटियाल के अगुवाई में निश्चेतक डॉ एस एन सिंह ,सिस्टर मनोरमा ,लक्ष्मी उनियाल ,बंदना नौटियाल, सहायक श्री गौतम हिन्दवाल, राकेश नेगी शामिल रहे ।मरीज नंदलाल का जिला चिकित्सालय में सरकार की लोक कल्याणकारी योजना अटल आयुष्मान भारत कार्यक्रम के तहत संपूर्ण ऑपरेशन इलाज निशुल्क किया जा रहा है । अब नंदलाल जी अपने दोनों पैर से खड़े हो रहे हैं।

Related posts

पीएम मोदी आज उत्तराखंड के दौरे पर, आदि कैलाश के करेंगे दर्शन,

prabhatchingari

उत्तराखंड आबकारी का यूटर्न, घर में बार खोलने का आदेश स्थगित

prabhatchingari

शिवपुरी के पास मोटरसाइकिल सवार हुआ दुर्घटनाग्रस्त, SDRF ने किया सकुशल रेस्क्यू

prabhatchingari

प्रधानमंत्री मोदी ने किये आदि कैलाश के दर्शन

prabhatchingari

महिलाओं/छात्राओं द्वारा पुलिस अधीक्षक को बाँधी गयी राखी, पुलिस अधीक्षक द्वारा बहनों को दिया गया सुरक्षा का आश्वासन

prabhatchingari

उत्तराखंड में इंजीनियरों की बंपर भर्ती का नोटिफिकेशन जारी

prabhatchingari

Leave a Comment