Prabhat Chingari
खेल–जगत

लेह से मनाली तक 428 किमी अनुराग सैनी की शानदार यात्रा, वीरों को रही समर्पित

देहरादून, मानव सहिष्णुता और अथक समर्पण को लेकर अनुराग सैनी ने लेह से मनाली तक 428 किलोमीटर की दौड़ को पूरा किया। अपनी इस अद्वितीय यात्रा के संस्मरण को लेकर अनुराग सैनी स्थानीय प्रेस क्लब में पत्रकारों से रूबरू हुये, उन्होंने कहा कि मेरी यात्रा 27 अगस्त से शुरू हुई और एक सितंबर समाप्त हुई, यह यात्रा ‘भारत के वीर’ सैनिकों को समर्पित रही |
श्री अनुराग ने कहा कि यह यात्रा गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड की छूट के बावजूद कई लोगों के दिलों में एक अद्वितीय रिकॉर्ड कर गई | सहिष्णुता और संकल्पना के परिपेक्ष में यात्रा भारत के वीर की भावना को दोहराते हुये उनके परिवारों का समर्थन करती है।
उन्होंने कहा कि इस महान उपलब्धि के पीछे छुपे थे कई अद्वितीय व्यक्तियों का समर्थन और समर्पण भी रहा जिसमें अनिल मोहन ने यात्रा की मजबूती की मूल आधारशिला रखी, श्री अनिल मोहन, सारमंग एडवेंचर टूर्स के प्रतिनिधित्व करते हुए सिर्फ एक आयोजक नहीं बल्कि उनकी विशेषज्ञता, समर्पण और अथक समर्थन ने इस उपलब्धि को संभव बनाया।

श्री अनुराग सैनी ने कहा कि
डॉक्टर करणैल सिंह और बालबिंदर कौर, लखनऊ से आने वाले डायनामिक पति-पत्नी युगल और यात्रिगण, इस अपने आद्यात्मिक यात्रा में अनमोल साथी रहे। उनका समर्थन और साथीपन ने सबसे कठिन टेरेन के माध्यम से आत्मा को प्रेरित किया और चुनौतियों को पार करने में टीमवर्क की ताक़त का परिचय दिया।
इस आश्चर्यजनक यात्रा के दौरान, अनुराग सैनी और उसकी समर्पित टीम ने समर्पित करने के लिए लगभग 30,000 रुपये एकत्र किए, ‘भारत के वीर’ कॉज को समर्थन देने के लिए, 6 सितंबर 2023, इस राशि को आधिकारिक रूप से दान कर
दिया गया।

इस यात्रा का महत्व एक व्यक्तिगत उपलब्धि से बढ़कर था। यह हमारे राष्ट्र के प्रगति में हर बड़े कार्य के प्रति हर छोटे कदम के योगदान को याद दिलाता है। अनुराग सैनी ने भविष्य की यात्राओं के लिए भी समाजजन कार्यों के लिए अपने समर्पण को व्यक्त किया। उन्होंने कहा, “हमारे राष्ट्र के प्रति हमारा कर्तव्य है कि हम राष्ट्रीय प्रगति के लिए मिलकर काम करें। हमें जो कुछ भी कर सकते हैं, वो भी हो, बिना सोचे कि इसका प्रभाव होगा या नहीं, क्योंकि छोटी प्रगति भी प्रगति होती है। मिलकर, हम एक बदलाव कर सकते हैं।”

श्री अनुराग सैनी की अदम्य भावना, ‘भारत के वीर’ के प्रति उनके समर्पण, और हमारे समाज के उन्नति के लिए उनके अथक समर्थन की श्रद्धांजलि के रूप में है। उनकी यात्रा सबके लिए प्रेरणा है, जो एक उच्च कॉज के सेवन में मानव संकल्प की ताक़त को प्रदर्शित करती है

Related posts

एसएफए का लक्ष्य स्कूल खेल प्रतियोगिता में बड़ा बदलाव लाना और खेल में नंबर एक स्कूल की खोज करना है

prabhatchingari

अंतर्राष्‍ट्रीय महिला दिवस पर बल्ला लेकर मैदान पर उतरी महिला जवान, हुयी चौके-छक्कों की बरसात…..

prabhatchingari

औली के पर्यटन विकास व खेल सुविधाओं में इजाफे के लिए ‘औली विकास प्राधिकरण’ का गठन किया जाएगा

prabhatchingari

गेटलीज हाउस वार्षिक खेलकूद प्रतियोगिता में विजेता रहा

prabhatchingari

कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी ने राष्ट्रीय खेल दिवस हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद के जन्म दिवस पर खिलाड़ियों को दी बधाई

prabhatchingari

16वीं सब जूनियर रोल बॉल नेशनल चैंपियनशिप में आज बालक व बालिका वर्ग की टीमों ने दिखाय दम ख़म

prabhatchingari

Leave a Comment