Prabhat Chingari
धर्म–संस्कृति

श्रीमद् भागवत कथा के पहले दिन हुआ गणेश पूजन, कथा महात्म्य व मंगलाचरण का किया गया वर्णन

गंगा विहार देहरादून में आयोजित श्रीमद्भागवत महापुराण कथा प्रेम यज्ञ के प्रथम दिन बुधवार को प्रवचन करते हुए आचार्य बाल व्यास कार्तिक पंत ने श्रीमद्भागवत कथा की महत्ता पर विस्तार से प्रकाश डाला।उन्होंने कहा कि बिनु परतीती होई नहीं प्रीति अर्थात माहात्म्य ज्ञान के बिना प्रेम चिरंजीव नहीं होता, अस्थायी हो जाता है। धुंधकारी चरित्र पर प्रकाश डालते हुए कहा कि आत्मसात कर लेें तो जीवन से सारी उलझने समाप्त हो जाएगी। द्रौपदी, कुन्ती महाभागवत नारी है। कुन्ती स्तुति को विस्तारपूर्वक समझाते हुए परीक्षित जन्म एंव शुकदेव आगमन की कथा सुनाई। पश्चात गौकर्ण की कथा सुनाई गई। व्यास जी ने कहा कि भगवान की लीला अपरंपार है। वे अपनी लीलाओं के माध्यम से मनुष्य व देवताओं के धर्मानुसार आचरण करने के लिए प्रेरित करते हैं। श्रीमदभागवत कथा के महत्व को समझाते हुए कहा कि भागवत कथा में जीवन का सार तत्व मौजूद है आवश्यकता है निर्मल मन ओर स्थिर चित्त के साथ कथा श्रवण करने की। भागवत श्रवण से मनुष्य को परमानन्द की प्राप्ति होती है। भागवत श्रवण प्रेतयोनी से मुक्ति मिलती है। चित्त की स्थिरता के साथ ही श्रीमदभागवत कथा सुननी चाहिए। भागवत श्रवण मनुष्य केे सम्पूर्ण कलेश को दूर कर भक्ति की ओर अग्रसर करती है। उन्होंने अच्छे ओर बुरे कर्मो की परिणिति को विस्तार से समझाते हुए आत्मदेव के पुत्र धुंधकारी ओर गौमाता के पुत्र गोकरण के कर्मो के बारे में विस्तार से वृतांत समझाया ओर धुंधकारी द्वारा एकाग्रता पूर्ण भागवत कथा श्रवण से प्रेतयोनी से मुक्ति बताई तो वही धुंधकारी की माता द्वारा संत प्रसाद का अनादर कर छल.कपट से पुत्र प्राप्ती ओर उसके बुरे परिणाम को समझाया।मनुष्य जब अच्दे कर्मो के लिए आगे बढता है तो सम्पूर्ण सृष्टि की शक्ति समाहित होकर मनुष्य के पीछे लग जाती है ओर हमारे सारे कार्य सफल होते है। ठीक उसी तरह बुरे कर्मो की राह के दौरान सम्पूर्ण बुरी शक्तियॉ हमारे साथ हो जाती है। इस दौरान मनुष्य को निर्णय करना होता कि उसे किस राह पर चलना है। छल ओर छलावा ज्यादा दिन नहीं चलता। छल रूपी खटाई से दुध हमेशा फटेगा। छलछिद्र जब जीवन में आ जाए तो भगवान भी उसे ग्रहण नहीं करते है- निर्मल मन प्रभु स्वीकार्य है। छलछिद्र रहित ओर निर्मल मन भक्ति के लिए जरूरी है। इस अवसर पर कई भक्त गणों सहित संदीप सिंह राणा प्रदेश उपाध्यक्ष भाजपा किसान मोर्चा, दामोदर भट्ट,  हरीश कांडपाल, पुष्पा, जानकी,उपस्थित रहे।

Related posts

भव्य कलश यात्रा के साथ श्रीमद् भागवत कथा शुरू

prabhatchingari

12 मई को खुलेंगे बदरीनाथ धान के कपाट, बसंत पंचमी पर किया गया शुभ मुहूर्त का एलान

prabhatchingari

चारधाम यात्रा के लिये ग्रीन कार्ड बनाने की प्रक्रिया शुरू, ऐसे करें एप्लाई, पढ़ें नियम…

prabhatchingari

श्री बदरीनाथ धाम कपाट खुलने की तिथि तय करने की प्रक्रिया

prabhatchingari

विश्व प्रसिद्ध बगवाल देवीधुरा में 7 मिनट चली बगवाल, 120 बगवाली वीर हुए घायल

prabhatchingari

भूटगांव द्वारिका पुरी से कांवड़ यात्रा हरिद्वार के लिए प्रस्थान

prabhatchingari

Leave a Comment