Prabhat Chingari
राष्ट्रीय

हार्टफुलनेस ऐप सार्वभौमिक शांति और मानवता की सेवा के अपने लक्ष्य की दिशा में अंग्रेजी, फ्रेंच और यूक्रेनी समेत 11 भाषाओं का समर्थन करने वाला एकमात्र ध्यान का ऐप है

यह लाखों भारतीय और अंतर्राष्ट्रीय उपयोगकर्ताओं के लिए निःशुल्क ध्यान को सुलभ बना रहा है

देहरादून हार्टफुलनेस ऐप, हार्टफुलनेस इंस्टीट्यूट का एक प्रमुख ध्यान का ऐप है जो व्यक्तिगत रूपांतरण के लिए दैनिक अभ्यास के रूप में ध्यान को बढ़ावा देता है। 650,000 से अधिक उपयोगकर्ताओं वाला यह निःशुल्क ऐप 11 भाषाओं में लाया जा रहा है और दुनिया भर में स्थानीय और अंतर्राष्ट्रीय, दोनों तरह के 700,000 से अधिक उपयोगकर्ताओं द्वारा तेजी से अपनाया जा रहा है। यह ऐप अभी गुजराती, मराठी, तमिल, तेलुगु, कन्नड़, हिंदी, उड़िया और बंगाली भाषाओं में उपयोग किया जा सकता है। अंतरराष्ट्रीय भाषाओं में यह ऐप अंग्रेजी, फ्रेंच और यूक्रेनी भाषाओं में उपयोग किया जा सकता है और जल्दी ही और भी भाषाओं की घोषणा की जाएगी। हार्टफुलनेस ऐप पूरे भारत देश और उसके बाहर रहने वाले व्यक्तियों के बीच आंतरिक शांति और कल्याण को बढ़ावा देने के लिए समर्पित है। वर्ष के अंत तक हार्टफुलनेस ऐप के उपयोगकर्ताओं की संख्या 10 लाख होने का अनुमान है|

हार्टफुलनेस ध्यान अभ्यास प्राणाहुति या योगिक संचरण की प्राचीन प्रणाली पर आधारित है, जिसका अभ्यास सम्पूर्ण विश्व में हार्टफुलनेस के आध्यात्मिक मार्गदर्शक, श्री राम चंद्र मिशन के अध्यक्ष और पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित श्रद्धेय दाजी के मार्गदर्शन में किया जाता है। हार्टफुलनेस ऐप इस अभ्यास को विश्व स्तर पर हर किसी के लिए उनकी सुविधानुसार उपलब्ध कराता है।

हार्टफुलनेस ऐप ध्यान को दैनिक अभ्यास बनाने में हर तरह की पृष्ठभूमि और अनुभव क्षेत्र के उपयोगकर्ताओं के लिए समान रूप से अनुकूल और प्रभावी है। अब सभी लोग ध्यान और आंतरिक शांति के लाभों का अनुभव कर सकते हैं।

हार्टफुलनेस के आध्यात्मिक मार्गदर्शक, श्री राम चंद्र मिशन के अध्यक्ष और पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित श्रद्धेय दाजी ने कहा, “हमें वर्तमान में छह प्रमुख भारतीय भाषाओं सहित सात भाषाओं का समर्थन करने वाला एकमात्र ध्यान ऐप का प्रवर्तक होने पर गर्व है। हमारा लक्ष्य ध्यान को सभी के लिए उनकी पृष्ठभूमि या निवास स्थान की परवाह किए बिना सुलभ बनाना है। मेरा दृष्टिकोण (विज़न) ध्यान के आमूल-चूल बदलावों को अपनाकर खुशहाल और स्वस्थ जीवन जीने के लिए लोगों को सशक्त बनाना है।”

हार्टफुलनेस के अभ्यासकर्ता जिनमें अनेक मशहूर हस्तियाँ भी शामिल हैं इस ऐप को लेकर उत्साहित हैं। शीर्ष बैडमिंटन खिलाड़ी पी वी सिंधु, जो एक हार्टफुलनेस अभ्यासकर्ता भी हैं, ने कहा, “किसी मैच में मेरा बहुत सारा प्रदर्शन मैच से पहले और उसके दौरान मेरी मानसिक स्थिति पर निर्भर करता है। मैं वर्षों से हार्टफुलनेस ध्यान का अभ्यास कर रही हूँ, जिसने मुझे हमेशा स्पष्टता और तीव्र फोकस दिया है। यह मुझे खुद से जोड़ता है और आंतरिक शांति लाता है। मैंने हाल ही में हार्टफुलनेस ऐप का अनेक बार ठीक उसी तरह उपयोग करना शुरू कर दिया है जैसे मैं शारीरिक प्रशिक्षण करती हूँ । इसने मुझे लगातार ध्यान का अभ्यास बनाए रखने में मदद की है। और इसकी सबसे अच्छी बात? मैं जब भी और जहाँ भी चाहूँ ध्यान कर सकती हूँ। यह शांति को अपनी जेब में रखने जैसा है। मैं अपने दैनिक ध्यान का समय निर्धारित कर सकती हूँ और ऐप का उपयोग करके उन्हें अपने कैलेंडर पर शेड्यूल कर सकती हूँ, अपने ध्यान की अवधि चुन सकती हूँ, अपने मूड के आधार पर पृष्ठभूमि संगीत का चयन कर सकती हूँ, और एक प्रशिक्षक के साथ व्यक्तिगत रूप से जुड़ कर उनके साथ ध्यान कर सकती हूँ। मूड मीटर सुविधा हर दिन मेरी भावनाओं को ट्रैक करता है और मेरे भीतर आए परिवर्तन पर नजर रखता है। ऐप में एक अंतर्निर्मित डायरी है जो मेरी प्रगति को अंकित करने देता है। हार्टफुलनेस ऐप वास्तव में मेरे जीवन में ध्यान को दैनिक आदत बनाने में अमूल्य रहा है। यह सहज, सरल, उपयोगकर्ता के अनुकूल और प्रभावी है। इस ऐप के कारण मैं कम तनावग्रस्त, अधिक केंद्रित और मजबूत महसूस करती हूँ।

कोई भी व्यक्ति 3 दिन का साधारण ध्यान लक्ष्य या 15 मिनट या 45 मिनट का महीने भर का ध्यान लक्ष्य का विकल्प चुन सकता है और प्रगति हमेशा आपके डैशबोर्ड पर उपलब्ध रहेगी।

हार्टफुलनेस ऐप आईओएस और एंड्रॉइड उपकरणों पर डाउनलोड करने के लिए उपलब्ध है। यह ऐप किसी भी उपयोगकर्ता के लिए पूरी तरह से निःशुल्क है।

अधिक जानकारी के लिए www.heartfullapp.org पर जाएँ

Related posts

एसटीएफ कोऑनलाइन ठगी करने वाले 8 नाइजीरियन अभियुक्तो के खिलाफ की कार्यवाही, 1 गिरफ्तार

prabhatchingari

अजब-गजब: इंसान बना कुत्ता, सपना किया पूरा, खर्च 11 लाख

prabhatchingari

28 नवंबर से 01 दिसंबर 2023 तक देहरादून में होगा 6वाँ विश्व आपदा प्रबन्धन सम्मेलन। जानिए

prabhatchingari

ओ.पी. जिंदल ग्लोबल यूनिवर्सिटी व फ्लैग फाउंडेशन ऑफ इंडिया ने सबसे बड़े मानव राष्ट्रीय ध्वज लहराने का नया गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया

prabhatchingari

राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू ने नेहरू मेमोरियल म्यूजियम का नाम बदलने पर लगाई मुहर,अब होगा यह नाम

prabhatchingari

अब कोरोना की तरह निपाह वायरस की दस्तक, हो सकती है मौत। उत्तराखंड में अलर्ट..

prabhatchingari

Leave a Comment