Prabhat Chingari
राष्ट्रीय

चांद के बाद सूरज की सुध लेगा ISRO, सूर्य के अध्ययन के लिए Aditya L1 सफलतापूर्वक लॉन्च

चंद्रयान-3 की सफलता से उत्साहित भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) लगातार नए आयाम छू रहा है। शनिवार सुबह सूरज के अध्ययन के लिए इसरो ने मिशन ‘आदित्य एल-1’ को सफलतापूर्वक प्रक्षेपित किया। ‘आदित्य एल-1’ को धरती से 15 लाख किलोमीटर दूर ‘लैग्रेंजियन-1’ (एल-1) बिंदु तक पहुंचने में 125 दिन लगेंगे। सूर्य के अध्ययनके लिए भारत का यह पहला मिशन है।
क्या है आदित्य एल-1
आदित्य एल1 सूर्य का अध्ययन करने वाला मिशन है। इसके साथ ही इसरो ने इसे पहला अंतरिक्ष आधारित वेधशाला श्रेणी का भारतीय सौर मिशन कहा है। आदित्य-L1 का प्रक्षेपण आज सुबह 11:50 बजे किया गया। श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से आदित्य एल1 का प्रक्षेपण किया गया। भारत का आदित्य एल1 अभियान सूर्य की अदृश्य किरणों और सौर विस्फोट से निकली ऊर्जा के रहस्य सुलझाएगा।

अंतरिक्ष यान को सूर्य-पृथ्वी प्रणाली के लैग्रेंजियन बिंदु 1 (एल1) के चारों ओर एक प्रभामंडल कक्षा में स्थापित करने की योजना है जो पृथ्वी से लगभग 15 लाख किमी दूर है। दरअसल, लैग्रेंजियन बिंदु वे बिंदु हैं जहां दो वस्तुओं के बीच कार्य करने वाले सभी गुरुत्वाकर्षण बल एक-दूसरे को निष्प्रभावी कर देते हैं। इस वजह से एल1 बिंदु का उपयोग अंतरिक्ष यान के उड़ने के लिए किया जा सकता है।
क्या क्या करेगा आदित्य एल-1
आदित्य-एल1 मिशन सूर्य का व्यवस्थित अध्ययन करने के लिए सात वैज्ञानिक पेलोड का एक सेट ले गया है।

1-विजिबल एमिशन लाइन कोरोनाग्राफ (वीईएलसी) सूर्य के वायुमंडल के सबसे बाहरी भाग यानी सौर कोरोना और सूरज में होने वाले सबसे शक्तिशाली विस्फोटों यानी कोरोनल मास इजेक्शन की गतिशीलता का अध्ययन करेगा।

2-सोलर अल्ट्रा-वायलेट इमेजिंग टेलीस्कोप (एसयूआईटी) नामक पेलोड अल्ट्रा-वायलेट (यूवी) के निकट सौर प्रकाशमंडल और क्रोमोस्फीयर की तस्वीरें लेगा। इसके साथ ही SUIT यूवी के नजदीक सौर विकिरण में होने वाले बदलावों को भी मापेगा।

3-आदित्य सोलर विंड पार्टिकल एक्सपेरिमेंट (एएसपीईएक्स) और प्लाज्मा एनालाइजर पैकेज फॉर आदित्य (पीएपीए) पेलोड सौर पवन और शक्तिशाली आयनों के साथ-साथ उनके ऊर्जा वितरण का अध्ययन करेंगे।

4-सोलर लो एनर्जी एक्स-रे स्पेक्ट्रोमीटर (SoLEXS) और हाई एनर्जी L1 ऑर्बिटिंग एक्स-रे स्पेक्ट्रोमीटर (HEL1OS) विस्तृत एक्स-रे ऊर्जा रेंज में सूर्य से आने वाली एक्स-रे किरणों का अध्ययन करेंगे।

5-मैग्नेटोमीटर पेलोड को L1 बिंदु पर दो ग्रहों के बीच के चुंबकीय क्षेत्र को मापने के लिए बनाया गया है।

आदित्य-एल1 के सातों विज्ञान पेलोड की खास बात है कि ये देश में विभिन्न प्रयोगशालाओं द्वारा स्वदेशी रूप से विकसित किए गए हैं। ये सभी पेलोड इसरो के विभिन्न केंद्रों के सहयोग से विकसित किए गए हैं।

Related posts

खरगोन के जिनिंग फैक्ट्री में देर रात वारदात को अंजाम दिया, CCTV में चुराते नजर आए | Late night incident in Khargone’s ginning factory, seen stealing in CCTV

cradmin

मंडी में पांच रुपए प्रति किलो बिक रहे नौरंगा फूल, किसान बोले- खर्च भी नहीं निकल रहा | Nauranga flowers are being sold for five rupees per kg in the market, the farmer said – even the expenses are not coming out

cradmin

अजब-गजब: इंसान बना कुत्ता, सपना किया पूरा, खर्च 11 लाख

prabhatchingari

बेल्जियम के पूर्व प्रधानमंत्री यवेस लेटर, सम्मेलन में बोले,भारत के पास एक शानदार संपत्ति है उस की भाषा कौशल”

prabhatchingari

गोडाउन से लाखों रुपए का वायर और इलेक्ट्रॉनिक सामान ले गए | Wire and electronic goods worth lakhs were taken by entering the godown

cradmin

आपातकाल दिवस की बरसी पर भाजपा द्वारा प्रबुद्ध जनों का सम्मान करते मंत्री गणेश जोशी ..

prabhatchingari

Leave a Comment