Prabhat Chingari
धर्म–संस्कृति

भगवान के साथ मानवीय रिश्ते बनाकर ,उनकी पूजा अर्चना और उनके साथ आनंद मानाने का त्यौहार है , सातू आठू त्यौहार*

*भगवान के साथ मानवीय रिश्ते बनाकर ,उनकी पूजा अर्चना और उनके साथ आनंद मानाने का त्यौहार है , सातू आठू त्यौहार*
चमोली ( प्रदीप लखेड़ा )
भगवान के साथ मानवीय रिश्ते बनाकर ,उनकी पूजा अर्चना और उनके साथ आनंद मानाने का त्यौहार है , सातू आठू त्यौहार। उत्तराखंड के पिथौरागढ़ व् कुमाऊँ के सीमांत क्षेत्र में मनाया जाने वाला यह त्यौहार प्रतिवर्ष भाद्रपद की पंचमी से शुरू होकर अष्टमी तक चलता है।
सातू आठू पर्व में महादेव शिव को भिनज्यू (जीजाजी ) और माँ गौरी को दीदी के रूप में पूजने की परम्परा है। सातो आठो का अर्थ है सप्तमी और अष्टमी का त्यौहार। भगवान शिव को और माँ पार्वती को अपने साथ दीदी और जीजा के रिश्ते में बांध कर यह त्यौहार मनाया जाता है। यही इस त्यौहार की सबसे बड़ी विशेषता है। कहते है ,जब दीदी गवरा( पार्वती ) जीजा मैशर (महेश्वर यानि महादेव ) से नाराज होकर अपने मायके आ जाती है ,तब महादेव उनको वापस ले जाने ससुराल आते है। दीदी गवरा की विदाई और भिनज्यू (जीजाजी) मैशर की सेवा क रूप में यह त्यौहार मनाया जाता है। यह त्यौहार कुमाऊँ सीमांत में सांतू आंठू के नाम से तथा ,नेपाल में गौरा महेश्वर के नाम से मनाया जाता है। इस लोक पर्व को गमारा पर्व भी कहा जाता है।

Related posts

ग्राम मरोड़ में बाबा केदार की पालकी का किया नव निर्माण

prabhatchingari

कावड़ मेले को लेकर डीजीपी अशोक कुमार ने की बैठक, कावड़ यात्रियों को आई कार्ड रखना होगा जरूरी साथ ही बैठक में लिए गए कई और बड़े फैसले

prabhatchingari

विश्वकर्मा दिवस के शुभ अवसर पर पूर्ण विधि-विधान के साथ की गई शस्त्रों, औजारों और मशीनों की पूजा-अर्चना

prabhatchingari

चारधाम यात्रा प्रबंधन व नियंत्रण संगठन की चारधाम यात्रा तैयारी बैठक

prabhatchingari

आज युवाओं के लिए सफलता के नए दरवाजे खुलेंगें।

prabhatchingari

अयोध्या में मोरारी बापू की श्रीराम कथा का समापन

prabhatchingari

Leave a Comment