Prabhat Chingari
जीवन शैली

डाली से गिरते हुए पत्तों ने क्या खूब कहा

*डाली से गिरते हुए पत्तों ने क्या खूब कहा:*
कर्म करना प्रकृति का नियम है
इन्हीं पत्तों के कारण हमें भोजन मिला
छोटे से पौधे से हम एक पेड़ बने
फले फूले और खूब खिले
अब है हमारे निर्वाण की तैयारी
चलते हैँ अब नयी खोज मे
अब है कुछ और नए पत्तों की बारी
*डाली से तोड़े हुए फलों ने तब क्या खूब कहा :*
अपने जीवन को भरपूर जिया
सबको खट्टा मीठा फल दिया
अब आई मुक्ति की बारी
फिर से एक और नये जीवन की तैयारी
*स्वरचित – मन की लेखनी से अर्चना गुप्ता*

Related posts

चमोली के छिनका में हाईवे अवरुद्ध होने से कई किलोमीटर लम्बी लाईन लगी, हाईवे खोलने का कार्य जारी*

prabhatchingari

सूबे में शीघ्र आयोजित होगा स्वास्थ्य चिंतन शिविरः डॉ. धन सिंह रावत

prabhatchingari

चमोली के पीयूष पुरोहित को डिजिटल इंडिया के तहत नैनो क्रिएटर अवार्ड,नई दिल्ली में प्रधानमंत्री मोदी ने दिया

prabhatchingari

श्री महंत इन्दिरेश में हृदय रोगियों के लिए इलक्ट्रोफिजियोलॉजी सुपर स्पेशलिटी उपचार शुरू

prabhatchingari

मानसून की पहली बरसात ने सरकारी दावों की पोल खोली

prabhatchingari

मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल ने धूम्रपान निषेध पर जागरूकता बढ़ाई…..

prabhatchingari

Leave a Comment