Prabhat Chingari
उत्तराखंडजीवन शैली

विश्व धरोहर फूलों की घाटी में इस बार पर्यटकों की संख्या काफी कम रही है

Advertisement

विश्व धरोहर फूलों की घाटी में इस बार पर्यटकों की संख्या काफी कम रही है
बारिश के कारण बार-बार हाईवे बंद होने और यात्रा स्थगित होने से घाटी में पर्यटक कम पहुंचे हैं
इस साल एक जून से चार सितंबर तक घाटी में 10,452 पर्यटक ही पहुंचे हैं जबकि पिछले साल 10 सितंबर तक 20,730 पर्यटक घाटी में पहुंच चुके थे।
फूलों की घाटी हर साल एक जून से 31 अक्तूबर तक पर्यटकों के लिए खुली रहती है
घाटी का सबसे पीक समय जुलाई और अगस्त का महीना माना जाता है, इस दौरान यहां सबसे अधिक करीब 300 प्रजाति के फूल खिले होते हैं

इसी दौरान सबसे अधिक पर्यटक भी घाटी में पहुंचते हैं लेकिन इस साल भारी बारिश, बदरीनाथ हाईवे बार-बार बंद होने और मौसम को देखते हुए यात्रा को बीच-बीच में रोकने से पर्यटकों ने घाटी की ओर कम रुख किया

घाटी में जाने के लिए स्थानीय पर्यटकों के लिए 150 रुपये व विदेशी पर्यटकों के लिए 600 रुपये शुल्क निर्धारित है

यहां पर दुर्लभ प्रजाति के वन्य जीव हिम तेंदुआ, हिमालयन काला भालू, मोनाल आदि विचरण करते रहते हैं। जबकि ब्रह्मकमल, फेन कमल सहित अन्य प्रकार के फूल खिलते हैं।

Related posts

ई-लर्निंग वाहन में इंटरनेट युक्त 120 लैपटॉप हैं, जिसमें शिक्षण सामग्री संरक्षित है।

prabhatchingari

टीएचडीसी ने इमीनेंट बांड जारी करने की तैयारी के लिए प्रमुख हितधारकों के साथ बैठक की।

prabhatchingari

कृषि विभाग की राज्य पोषित योजनाओं के लिए कोटक महिंद्रा बैंक द्वारा तैयार किए गए डैशबोर्ड का अनावरण करते मंत्री गणेश जोशी।*

prabhatchingari

बीस सूत्रीय कार्यक्रम व क्रियान्वयन समिति उत्तराखंड सरकार की अध्यक्षता में सभी विभाग अध्यक्षों की बैठक संपन्न हुई

prabhatchingari

मेडिकल शिक्षा से लेकर संस्कृत स्कूलों व मदरसों में भी खुलेगी इकाई

prabhatchingari

महानगर कांग्रेस ने बीजेपी सरकार का किया पुतला दहन

prabhatchingari

Leave a Comment