Prabhat Chingari
अन्तर्राष्ट्रीय

श्री राम के आध्यात्मिक सार की खोज – दाजी

श्री राम नवमी भगवान राम के जन्म दिवस के उपलक्ष्य में मनाई जाती है, जो सत्य, करुणा और भक्ति के प्रतीक हैं। श्रद्धा, उत्सव और सांस्कृतिक महत्व के अलावा श्री राम नवमी में एक गहरा आध्यात्मिक सार है, जो भक्तों को भगवान राम की कालातीत शिक्षाओं को समझने और अपनी आध्यात्मिक यात्रा के लिए प्रेरणा पाने के लिए आमंत्रित करता है।

भगवान राम के जन्म की कथा दिव्य महत्व में डूबी हुई है। अयोध्या में राजा दशरथ और रानी कौशल्या के घर जन्मे भगवान राम के पृथ्वी पर आने का उद्देश्य सत्य (धर्म) को बनाए रखना और असत्य (अधर्म) को हराना है। महाकाव्य रामायण में लिपिबद्ध उनकी जीवन यात्रा सम्पूर्ण मानव जाति के लिए अच्छाई को आलोकित करने वाली प्रकाश की किरण के रूप में कार्य करती है।

श्री रामनवमी मात्र ऐतिहासिक, धार्मिक, सांस्कृतिक या पौराणिक महत्व से परे जाती है। यह बुराई पर सदाचार, अंधेरे पर प्रकाश और घृणा पर प्रेम की विजय का प्रतीक है। मेरे आध्यात्मिक गुरु पूज्य बाबू जी महाराज ने अपनी पुस्तक “रियलिटी एट डॉन” में कहा है कि कोई भी समाज आध्यात्मिक मूल्यों और प्रेम के बिना जीवित नहीं रह सकता। भगवान राम आत्मविश्वास, साहस, दूरदर्शिता, करुणा और क्षमा के शाश्वत उदाहरण हैं। रामायण इन मूल्यों का वर्णन करने के लिए एक आदर्श महाकाव्य है।

भगवान राम का जीवन गहन शिक्षाओं से भरा हुआ है जो पीढ़ियों से आध्यात्मिक जिज्ञासुओं को प्रेरित करती हैं। विपरीत परिस्थितियों में सत्य, कर्तव्य और धार्मिकता के प्रति उनकी ईमानदारी और अटूट प्रतिबद्धता आध्यात्मिक उन्नति चाहने वाले व्यक्तियों के लिए आदर्श आचरण का उदाहरण है| इसलिए उन्हें मर्यादा पुरुषोत्तम के नाम से जाना जाने लगा। भगवान राम सभी प्राणियों के प्रति करुणा के लिए जाने जाते हैं, चाहे उनका पद या पृष्ठभूमि कुछ भी हो और यह बात हमें दूसरों के साथ हमारी बातचीत में सहानुभूति और दयालुता पैदा करने के लिए प्रेरित करती है। विशेष रूप से बड़ों और शिक्षकों के प्रति उनका सम्मान भाव आज तक बच्चों के लिए अनुसरण करने योग्य उदाहरण के रूप में उपयोग किया जाता है। अपने भाइयों और पत्नी के प्रति उनका प्यार और कर्तव्यपरायणता, कम उम्र में ही उनकी जिम्मेदारी की भावना, और जाति, पंथ या मूल से परे हर एक लिए उनकी स्वीकृति, मानवता के बेहतरीन उदाहरण के रूप में प्रकाश मान है। जब कई लोगों ने राम को रावण के भाई विभीषण को स्वीकार न करने की सलाह दी तो राम ने कहा कि यह मेरी व्यक्तिगत नैतिकता है कि जो कोई भी मेरी उपस्थिति में शरण माँगने के लिए आता है, उसे निडरता और सुरक्षा का आश्वासन देता हूँ। भगवान राम हमारे लिए अलगाववाद से एकता की ओर, घृणा से प्रेम की ओर, अस्वीकृति से स्वीकृति की ओर और प्रतिशोध से क्षमा की ओर बढ़ने का उदाहरण थे।

रामायण केवल एक पवित्र ग्रंथ के रूप में पूजनीय ऐतिहासिक कथा नहीं है, बल्कि आध्यात्मिक ज्ञान का भंडार है। यह धर्म (धर्म आधारित कर्तव्य) की अवधारणा को स्पष्ट करती है और इससे विचलित होने के परिणामों को दर्शाती है। जीवन की चुनौतियों का सामना करने में भगवान राम की विनम्रता, वीरता और समता आध्यात्मिक विकास के लिए प्रयास करने वाले व्यक्तियों के लिए कालातीत सबक के रूप में काम करती है।
श्री रामनवमी एक उत्सव है। उत्सव मनाने का क्या अर्थ है? उत्सव का अर्थ है कि जिस व्यक्ति के कारण हम उत्सव मना रहे हैं, उसके गुण भी विशेष रूप से हमारे दिलों में प्रतिध्वनित होने चाहिए। अन्यथा यह बहुत कृत्रिम, मात्र कर्मकांड हो जाता है।
तो यह हमें आत्मनिरीक्षण करने की याद दिलाता है। हमारे हृदय व्यक्ति के विकास के साथ-साथ वैश्विक चेतना, विश्व शांति के विकास का नेतृत्व कर सकते हैं – जिसका हम सभी प्रचार करने के लिए तैयार हैं, और प्रचार करने में रुचि रखते हैं। ध्यान हमें इस विकास का अवसर देता है जिसमें अपने अंतर में जाकर हम पाते हैं कि भगवान राम हमारे हृदय के भीतर हैं।
आइए, इस श्री राम नवमी के अवसर पर हम इसके आध्यात्मिक सार को आत्मसात करें। हम अपने दैनिक जीवन में भगवान राम के गुणों का अनुकरण करने का प्रयास करें और सद्भाव, करुणा एवं सच्चाई को बढ़ावा दें। भगवान राम ने अपने राम राज्य में देश के गुण, नियम एवं कानून सुनिश्चित किए – यह एक ऐसा समाज था जिसमें सदाचार, नैतिकता और न्याय मूल आदर्श थे, जिनके अनुसार ही नागरिकों के बीच और नागरिक एवं राज्य के बीच दिन-प्रतिदिन का संवाद होता था – आइए हम उसे भी आत्मसात करने का प्रयास करें।
श्री रामनवमी को कैलेंडर पर एक तारीख या आत्मनिरीक्षण के दिन से अधिक होने दें जब हम उनके गुणों के बारे में विचार करते हैं| आइए इस वर्ष इससे आगे जाने का प्रयास करें। आइए, अपनी व्यक्तिगत कहानियों और आख्यानों को साहस, करुणा और अटूट अखंडता के साथ फिर से लिखें।
लेखक- श्री रामचंद्र मिशन के मार्गदर्शक एवं अध्यक्ष हैं।

Related posts

गरिमा दसौनी को उत्तर प्रदेश कांग्रेस मीडिया प्रभारी की कमान :

prabhatchingari

राष्ट्रीय एकता यात्रा’’ पर आए टेंग्नौपाल, मणिपुर के छात्र-छात्राओं ने भेंट की

prabhatchingari

सेवानिवृत्त लेफ्टिनेंट जनरल योगेन्द्र डिमरी उत्तर प्रदेश में आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के उपाध्यक्ष नियुक्त

prabhatchingari

इंश्योरेंस देखो कॅरियर से ब्रेक लेने वाली महिलाओं को काम पर दोबारा लौटने के लिए प्रोत्साहित कर रहा है

prabhatchingari

हायर ने इनोवेटिंग ‘इन इंडिया, फॉर इंडिया’ के 20 सालों का जश्न मनाया, अपने नए दृष्टिकोण ‘मोर क्रिएशन्स, मोर पॉसिबिलिटीज़’ का किया अनावरण

prabhatchingari

कैस्ट्रोल व बीपी ने सुपरस्टार शाहरूख खान को बनाया अपना ब्राण्ड अम्बेसडर

prabhatchingari

Leave a Comment