Prabhat Chingari
उत्तराखंडमनोरंजन

देवाल के पर्यटक स्थलों को जोड़ने वाले पैदल मार्गों का होगा कायाकल्प, वन विभाग से मांगे प्रस्ताव

Advertisement

*देवाल के पर्यटक स्थलों को जोड़ने वाले पैदल मार्गों का होगा कायाकल्प, वन विभाग से मांगे प्रस्ताव*
चमोली ( प्रदीप लखेड़ा )
जनपद चमोली अंर्तगत कुमांऊ सीमा से लगे देवाल विकासखंड स्थित ऐतिहासिक नंदादेवी राजजात के मुख्य पड़ाव को जोड़ने वाले पैदल मार्ग सहित मुख्य पर्यटक स्थल ब्रह्मताल, रुपकुड, वेदनी, आली, बगजी बुग्याल, भेकलताल में बर्फबारी के बाद इन दिनों पर्यटकों की आमद से ग्रामीण खुश हैं।लेकिन इन पर्यटक स्थलों के पहुंच पैदल मार्गों की स्थिति ठीक नहीं है जिसके लिए वन विभाग से प्रस्ताव मांगे गए है फिलहाल स्वच्छता, पेयजल के लिए जिसपर अब पर्यटन विभाग द्वारा 34 लाख रुपये की धनराशि निर्गत कर आवश्यक सुविधाएं बहाल करने की दिशा में कदम बढ़ाया है।
वन विभाग के आंकड़ों पर नजर डालें तो इन पर्यटक स्थलों से हर वर्ष 30 हजार से अधिक राजस्व वन विभाग को मिलता है बाबजूद इसके खूबसूरत पर्यटक स्थलो को जाने वाले रास्तों के हाल खस्ताहाल बने हैं और ना ही इन पर्यटक स्थलों में मूलभूत सुविधाओं का टोटा यहां पहुंचने वाले पर्यटकों को परेशान भी करता है।
देवाल स्थित होमकुंड, ज्यूरागली, रूपकुंड, केलुवाविनाक, पातरनचौनिया, बगुवावासा, वेदनी,आली, बगजी बुग्याल, भेकलताल, ब्रह्मताल, आयनटाप, नागाड, मानेश्वर महादेव गुफा मोपाट प्रकृति का नूर प्रसिद्ध है और इन पर्यटक स्थलों का केन्द्र बिन्दु देवाल है, जहां से वांण, लोहाजंग, कुलिग बेस कैम्प में सैकड़ों देशी-विदेशी पर्यटकों की आवाजाही होती है।
यहां से इन सभी पर्यटन स्थलों में अपने साथ खाने पीने रहने का सामान खुद पर्यटक पैदल सफर कर ढोते हैं जबकि थराली -देवाल, लोहाजंग -वाण मोटर सड़क उबड़-खाबड़ होने से पर्यटक हिचकोले खाते हुए यहां पहुंचते है।
वहीं लोहाजंग ब्रह्मताल व रूपकुंड रूट पर पानी, दूरसंचार, इंटरनेट, सुरक्षा , अस्थायी शौचालय, व प्रकाश की कोई व्यवस्था नहीं होने से पर्यटकों को भारी दिक्कतो का सामना करना पड़ रहा है।
हिमालयन हैकर के प्रबंधक विक्रम सिंह व गाइड सुरेन्द्र सिंह ने कहा कि पर्यटन से क्षेत्र के स्थानीय पर्यटन कारोबारियों को रोजगार मिल रहा है। 50 से अधिक लोग पर्यटन व्यवसाय से जुड़े कर लोगों की आजीविका का यह साधन है लेकिन सरकार द्वारा लोहाजंग व वाण में वाहन पार्किंग सुविधा भी नहीं है जबकि रास्तों की हालात बेहद खराब है।
वन विभाग से मिले आंकड़ों स 2022 में ब्रह्मताल रूट पर 17 विदेशी व 4560 देशी, वर्ष 2023 में 27 विदेशी व 4538 देशी , जनवरी फरवरी 2024 तक 250 पर्यटक पहुंचे हैं । देशी पर्यटक पर एक दिन का प्रवेश शुल्क 60रू. व विदेशी के लिए 120 रुपये, फायवर हट का देशी 200 रुपये व विदेशी के लिए 400 रुपये शुल्क वन विभाग लेता है। स्थल वन विभाग के अधीन हैं। यहां जानै वाले पैदल रास्ते जगह जगह पर उबड़-खाबड़ है। इन रास्तों के सुधारीकरण व रखरखाव के लिए कार्य योजना बनाई गई है।

Related posts

टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड ने अपना 36वां स्थापना दिवस मनाया

prabhatchingari

राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय गोपेश्वर का भागीरथी छात्रावास भू- धंसाव से खतरे में,छात्रों को किया शिफ्ट*

prabhatchingari

आधुनिक चिकित्सा पद्धति को चुनौती दे रही डॉ. निशि भट्ट की यूनिक माइंड प्रोग्रामिंग टेक्निक

prabhatchingari

मैक्स हॉस्पिटल, देहरादून ने ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के लिए इमीग्रेशन हेल्थ चेकअप सेवाएं शुरू …..

prabhatchingari

स्पिक मैके ने भुट्टे खान मांगनियार एंड ग्रुप द्वारा राजस्थानी लोक प्रदर्शन किया आयोजित देहरादून, 7 फरवरी 2024: स्पिक मैके ने द प्रेसीडेंसी इंटरनेशनल स्कूल, दून इंटरनेशनल स्कूल, द दून स्कूल, यूनिवर्सल एकेडमी और द दून गर्ल्स स्कूल में प्रसिद्ध भुट्टे खान मांगनियार एंड ग्रुप द्वारा एक मनमोहक राजस्थानी लोक नृत्य प्रदर्शन प्रस्तुत किया। प्रदर्शन में भगवान कृष्ण को समर्पित एक भजन की भावपूर्ण प्रस्तुति शामिल रही, जिसके बाद ‘केसरिया बलमा पधारो मारे देश’ पर एक जीवंत स्वागत गीत प्रस्तुत किया गया। इसके अतिरिक्त, कालबेलिया, भवाई, घूमर और तेरहताली जैसे लोक नृत्यों ने कार्यक्रम के आकर्षण को और बढ़ा दिया। राजस्थान के सांस्कृतिक रूप से समृद्ध क्षेत्र बाड़मेर से आने वाले भुट्टे खान मंगनियार न केवल एक उच्च कुशल कलाकार हैं, बल्कि लोककथाओं के एक समर्पित प्रवर्तक भी हैं। उन्होंने सैकड़ों लोक कलाकारों के साथ मिलकर राजस्थान की जीवंत परंपराओं को दुनिया भर के दर्शकों के सामने प्रदर्शित किया है। उनकी उल्लेखनीय प्रस्तुतियों में कोक स्टूडियो में प्रदर्शन और अभूतपूर्व पहल ‘धरोहर’ शामिल हैं, जिसके माध्यम से भारत और विदेश के लोक कलाकारों को एक साथ आने का मौक़ा मिला। ग़ौरतलब है कि वह सितंबर 2007 में रूस में आयोजित भारत के स्वतंत्रता दिवस समारोह के दौरान भव्य प्रदर्शन का एक अहम हिस्सा रहे हैं। कार्यक्रम के दौरान मौजूद छात्रों में एक ने कहा, “भुट्टे खान मंगनियार का प्रदर्शन वास्तव में मनमोहक था। मेरे लिए यह कार्यक्रम राजस्थानी संस्कृति और परंपराओं की समृद्ध दुनिया में कदम रखने जैसा था।”

prabhatchingari

टिहरी बांध ओवरफ्लो हुआ तो होगा खौफनाक मंजर, AI ने दिखाई तस्वीरें।

prabhatchingari

Leave a Comment