Prabhat Chingari
उत्तराखंडशिक्षा

रूट्स2रूट्स ने उत्तराखंड के सुदूरवर्ती इलाकों में स्थापित किए डिजिटल क्लासरूम

देहरादून-: देश के दूरदराज के इलाकों में छात्रों के लिए शिक्षा को सुलभ और समावेशी बनाने के उद्देश्य से, दिल्ली स्थित गैर-मुनाफा प्राप्त संगठन रूट्स2रूट्स (R2R) ने उत्तराखंड तथा हिमाचल प्रदेश के दूरस्थ भागों में डिजिटल क्लासरूम स्थापित किए हैं। यह संगठन देश में कला, संस्कृति और विरासत को बढ़ावा देने के लिए समर्पित है। रूट्स2रूट्स (R2R) ने इन दो राज्यों में 100 इंटरेक्टिव फ्लैट पैनल (आईएफपी) लगाए हैं।
इस पहल के लिए औली, केदारनाथ, स्पीति घाटी और किन्नौर आदि जिलों को चुना गया है। रूट्स2रूट्स (R2R) ने हिमाचल प्रदेश के 12 तथा उत्तराखंड के 13 जिलों में प्रत्येक में चार स्कूलों को डिजिटाइज़्ड किया है, जिसके परिणामस्वरूप देश के सबसे सुदूर भागों में आधुनिक एजुकेशनल टूल्स को पहुंचाया गया है। महत्वाकांक्षी जिलों के तौर पर चिन्हित इन जिलों में शिक्षा तथा छात्रों के सर्वांगीण विकास में सुधार पर ध्यान दिया जा रहा है।
इस पहल के बारे में, राकेश गुप्ता, संस्थापक, रूट्स2रूट्स (R2R) ने कहा, रूट्स2रूट्स में हमारा मिशन अत्यंत दूरस्थ इलाकों समेत देशभर के सभी छात्रों के लिए लर्निंग के समान अवसरों को उपलब्ध कराना है। हम भविष्य की पीढ़ियों के लिए उत्तम शिक्षा उपलब्ध कराने वाले उत्प्रेरक के तौर पर पहचान बनाने का इरादा रखते हैं। हालांकि कुछ इलाकों तक पहुंचना बेहद कठिन है लेकिन हमारी टीम ने ऐसी बाधाओं को पार कर हरेक छात्र के लिए क्वालिटी एजुकेशन उपलब्ध कराने की प्रतिबद्धता प्रदर्शित की है। हम आगे भी देश के सुदूरतम भागों में रहने वाले छात्रों के लिए उसी प्रकार की शैक्षिक सुविधाएं मुहैया कराने के प्रयास जारी रखेंगे जैसे कि शहरी इलाकों में रह रहे छात्रों के लिए उपलब्ध होती हैं।”

Related posts

मानसखंड बनने से बदलेगी कुमाऊं की तस्वीर: सीएम धामी।

prabhatchingari

चार धाम के लिए तीर्थ यात्रियों को पंजीकरण करवाना जरूरी, कब शुरू होगा रजिस्ट्रेशन

prabhatchingari

राजधानी से यमुनोत्री धाम आना-जाना हुआ आसान, , जनता ने मुख्यमंत्री का जताया आभार

prabhatchingari

एचएनबी गढ़वाल विश्वविद्यालय के कुलसचिव बने प्रो0 राकेश कुमार ढोडी

prabhatchingari

पीआरडी जवान हैं विभाग की रीढ़,जवानों के हितों के लिए सरकार लगातार कर रही काम

prabhatchingari

विश्व प्रकृति संरक्षण दिवसः पृथ्वी के सृजन की रक्षा करते हुए हम आत्मा की उन्नति का पोषण करते हैं

prabhatchingari

Leave a Comment