Prabhat Chingari
उत्तराखंडस्वास्थ्य

ऋषिकेश एम्स में 3.25 किलो के फेफड़े के ट्यूमर का सफल ऑपरेशन

देहरादून /ऋषिकेश:- समय पर इलाज शुरू होने से जीवन के अन्तिम क्षणों में खड़े बीमार व्यक्ति के जीवन को भी बचाया जा सकता है। कुछ ऐसा ही मामला देहरादून के रहने वाले 44 वर्षीय विक्रम सिंह रावत का है। एम्स के अनुभवी थोरेसिक सर्जन डाॅक्टरों ने न केवल विक्रम की छाती की मेजर सर्जरी कर विशालकाय ट्यूमर निकालने मे सफलता हासिल की अपितु रोगी को नया जीवन भी प्रदान कर दिया। मरीज अब पूरी तरह से स्वस्थ है।

44 साल के विक्रम सिंह को छाती में दर्द की परेशानी जुलाई 2023 में शुरू हुई थी। लगभग एक साल से वह छाती में होने वाले तीव्र दर्द से परेशान थे। आस-पास के अस्पतालों से लेकर उन्होंने राज्य के अन्य बड़े अस्पतालों में भी अपनी बीमारी दिखायी। थोरेसिक सर्जन उपलब्ध न होने की वजह से जब कई अस्पतालों ने हाथ खड़े कर दिए तो विक्रम की अन्तिम उम्मीद एम्स ऋषिकेश पर आकर टिक गयी। पिछले महीने एम्स पहुचने पर विक्रम ने सीटीवीएस विभाग के चिकित्सकों को पूरी बात बतायी। सीटी स्कैन करवाने पर डाॅक्टरों ने जब रिपोर्ट देखी तो पता चला कि मरीज के बायें फेफड़े पर एक विशालकाय ट्यूमर बन गया है जो उस फेफड़े को पूरी तरह दबाने के साथ-साथ कभी भी दाएं फेफड़े को भी अपनी चपेट में ले सकता था।

एम्स के हृदय छाती एवं रक्त-वाहिनी शल्य चिकित्सा (सी.टी.वी.एस.) विभाग के विभागाध्यक्ष डाॅ. अंशुमान दरबारी ने बताया हाई रिस्क में होने के बाद भी ट्यूमर निकालने के लिए ओपन सर्जरी करने का निर्णय लिया गया। डाॅ. दरबारी ने बताया कि 11 जून को उनकी कुशल टीम ने सर्जरी द्वारा मरीज की छाती खोलकर एक ही बार में पूरा ट्यूमर निकाल दिया। सर्जरी करने वाली टीम में मुख्यतौर पर सीटीवीएस विभाग के डॉक्टर अविनाश प्रकाश और एनेस्थेसिया विभाग के डाॅ. अजय कुमार का विशेष योगदान रहा। पूरी तरह से निकला गया ट्यूमर 22×20 सेमी और 3.2 किलो वजन का है। क्रिटिकल केयर सपोर्ट और बेहतर नर्सिंग देखभाल की वजह से मरीज जल्दी रिकवर होने लगा और अब पूर्णतः स्वस्थ है। उन्होंने बताया कि रोगी का संपूर्ण इलाज राज्य सरकार की गोल्डन कार्ड योजना के तहत सरकारी दरों पर निःशुल्क किया गया है। यह योजना रोगी के लिए वरदान साबित हुई है। संस्थान की कार्यकारी निदेशक प्रोफेसर मीनू सिंह ने सर्जरी करने वाली चिकित्सकों की टीम की प्रशंसा की और कहा कि एम्स ऋषिकेश थोरेसिक और वक्ष से जुडी सभी बीमारियों का इलाज व सर्जरी करने में सक्षम है।

क्या है थोरेसिक/वक्ष सर्जरी ?
ऋषिकेश। थोरेसिक सर्जरी में छाती (वक्ष) के अन्तर्गत हृदय और फेफड़ों के अलावा अन्नप्रणाली, श्वासनली आदि अंगों की सर्जरी शामिल है। फेफड़ों, के ट्यूमर को हटाना तथा छाती में धमनी विकार की मरम्मत आदि सभी थोरैसिक सर्जरी की श्रेणी में आते हैं। उत्तराखण्ड स्थित सभी सरकारी अस्पतालों में केवल एम्स ऋषिकेश ही अकेला सरकारी स्वास्थ्य संस्थान है, जंहा थोरेसिक सर्जरी की सुविधा उपलब्ध है। एम्स में सीटीवीएस विभाग वर्ष 2014 में खुला था। तब से यहां इस प्रकार के सैकड़ों सफल आपरेशन किए जा चुके हैं।

लिम्का बुक में दर्ज है डाॅ. दरबारी की उपलब्धियां
ऋषिकेश। एम्स ऋषिकेश के सीटीवीएस विभाग के थोरेसिक सर्जन प्रो. अंशुमान दरबारी का नाम वर्ष 2024 में लिम्का बुक आफ रिकाॅर्ड में दर्ज हो चुका है। 13 सितम्बर 2021 को एक मरीज की छाती से देश में अब तक के सबसे बड़े साईज के ट्यूमर (28×24 cms, 3.8 Kg) को सफलता पूर्वक निकालने की उपलब्धि पर उनका इस बुक में नाम दर्ज हुआ है। वर्ष 2015 से अब तक डाॅ. दरबारी इस तरह के विशालकाय थोरेसिक ट्यूमर वाले अन्य 11 मरीजों की मेजर थोरेसिक सर्जरी कर चुके हैं और इन सभी ऑपरेशन केस के रिसर्च आर्टिकल को इंटरनेशनल जर्नल में प्रकाशित भी करा चुके हैं। उन्हें फरवरी 2021 में भारतीय कार्डियोथोरेसिक सर्जरी एसोसिएशन द्वारा डॉक्टर दस्तूर मेमोरियल अवार्ड और सितम्बर 2022 में चिकित्सीय क्षेत्र में विशिष्ट कार्यों के लिए आदित्य बिड़ला ग्रुप की ओर से महात्मा पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है।

Related posts

एम्स के नेत्र रोग विभाग व अखिल भारतीय मारवाड़ी सम्मेलन संस्था के संयुक्त तत्वावधान में नेत्र परीक्षण शिविर का आयोजन ……

prabhatchingari

इंदौर में बोले BJP प्रदेश अध्यक्ष शर्मा, अध्यक्ष पद से हटाने की अटकलों पर दिया ऐसा जवाब…. | BJP state president Sharma said in Indore, gave such an answer on the speculations about his removal from the post of president….

cradmin

उत्तरांचल विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में  राज्यपाल ने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले छात्र-छात्राओं को उपाधियों से नवाजा,

prabhatchingari

अग्निवीर योजना में ये 5 बदलाव हो सकते हैं, लोकसभा चुनाव में पड़ा था इसका असर..

prabhatchingari

महाशिवरात्रि पर चंद्रेश्वर महादेव मंदिर में रूद्राभिषेक, कर समस्त देश व प्रदेशवासियों की सुख समृद्धि की कामना: मंत्री रेखा आर्या

prabhatchingari

जोशीमठ-औली रोप वे के अभी शुरू होने के कोई आसार नजर नहीं आ रहे*

prabhatchingari

Leave a Comment