Prabhat Chingari
अपराधउत्तराखंड

2 वर्ष से कम उम्र के बच्चे को पिता ने किया माँ से अलग तो आयोग अध्यक्ष ने एसपी को दिए निर्देशित शीघ्र अतिशीघ्र माँ को दिलाया जाए बच्चा

उत्तराखंड राज्य महिला आयोग के कार्यालय में आज एक पीड़िता न्याय की गुहार लगाते हुए पहुंची जिसने जानकारी में बताया कि उसके पति द्वारा उसके दो वर्ष के बच्चे को उससे दूर कर दिया गया है। वह पिछले एक हफ्ते से अपने बच्चों से मिलने के लिए तड़प रही है परंतु उसके पति द्वारा उसको उसके बच्चे से नहीं मिलाया जा रहा है।

पीड़िता ने आयोग अध्यक्ष के समक्ष न्याय की गुहार लगाते हुए जानकारी में बताया कि आपसी कलह के कारण पति द्वारा इस प्रकार के घटना को अंजाम दिया गया। मेरा बच्चा अभी 2 साल का भी पूरा नही हुआ है जिसे माँ के दूध की अत्यंत आवश्यकता है, परंतु मेरा पति मुझे मेरे बच्चे से मिलने नहीं दे रहा है। मेरा पति 31 मई को मुझसे मेरा बच्चा चुपचाप छिपा कर कहि ले गया है और इतने दिनों से मुझे मेरे बच्चे से नही मिलाया जा रहा है।

मामले में आयोग की अध्यक्ष कुसुम कंडवाल ने त्वरित कार्यवाही करते हुए एसपी देहरादून को निर्देशित किया है कि शीघ्र अतिशीघ्र उक्त पीड़ित मां को उसका बच्चा सकुशल वापिस दिलाया जाए ताकि उसकी माँ उसे स्तनपान करा सके, जो कि बच्चे का भी अधिकार है और पीड़ित माँ का भी।
उन्होंने कहा की हिंदू अल्पसंख्यक और संरक्षकता अधिनियम, 1956 के सेक्शन 6 के अनुसार, 5 वर्ष से कम आयु के हिंदू बच्चे को माता की देखरेख में रखा जाता है क्योंकि इस उम्र में केवल माँ ही बच्चे को उचित भावनात्मक, शारीरिक, नैतिक सहारा दे सकती है। कानून व अधिकारों के अनुसार 7 वर्ष से कम आयु के बच्चे को कोई भी उसकी माँ से अलग नही कर सकता है और हमारा कानून इस अपराध की अनुमति नही देता है।

Related posts

सिंचाई मंत्री महाराज ने योगी से परिसम्पत्तियों के हस्तान्तरण के शानादेश करने का किया अनुरोध

prabhatchingari

राज्य में बढ़ते तापमान को देख सीएम धामी ने स्वास्थ्य सचिव को दिए अस्पतालों में समुचित व्यवस्थायें बनाने व जरूरी दवाओं का स्टाक रखने के निर्देश

prabhatchingari

स्वच्छ भारत है एक साझी जिम्मेदारी, हर प्रयास की है अहमियत

prabhatchingari

श्रीनगर बैराज से एसडीआरएफ ने किया शव बरामद….

prabhatchingari

लंगासू में शराब की दुकान का विरोध, प्रदर्शन करने वालों को अदालत ने भेजा नोटिस

prabhatchingari

प्राइवेट स्कूलों की मनमानी,अभिभावकों की जेब पर भारी ………..

prabhatchingari

Leave a Comment