Prabhat Chingari
धर्म–संस्कृति

विधि विधान से खुले आदिबदरी मंदिर के कपाट, श्रद्धालुओं ने किए दर्शन

*विधि विधान से खुले आदिबदरी मंदिर के कपाट, श्रद्धालुओं ने किए दर्शन।*
चमोली ( प्रदीप लखेड़ा )
श्री आदिबदरी मंदिर के कपाट मकर संक्रांति के पर्व पर पूजा-अर्चना के बाद विधि-विधान से ब्रह्म मुहूर्त में 4 बजकर 30 मिनट पर श्रद्धालुओं के दर्शनों के लिए खोल दिए गए हैं। परंपराओं के अनुसार मंदिर के कपाट वर्षभर में पौष माह के लिए बंद किए जाते हैं। मंदिर के कपाट खुलने के साथ ही आदिबदरी में सात दिवसीय श्री आदिबदरी महाभिषेक समारोह तथा शीतकालीन पर्यटन एवं सांस्कृतिक विकास मेले का भी शुभारंभ हो गया है। मेले का शुभारंभ भाजपा प्रदेश कार्य समिति के सदस्य समीर मिश्रा ने किया। अयोध्या में श्री रामलला की प्राण प्रतिष्ठा का लेकर भी आदिबद्री मंदिर में विशेष पूजा अर्चना एवं भजन कीर्तन शुरू हो गए है।
मंदिर में मकर संक्रांति के मौके पर ब्रह्म मुहूर्त में पुजारी चक्रधर थपलियाल ने कपाट खुलने के मौके पर अभिषेक पूजा संपन्न करवाई। जिसके बाद भगवान नारायण को भोग और पंच ज्वाला आरती के बाद मंदिर में दर्शनों की प्रक्रिया शुरु कर दी गई है। मंदिर परिसर में सात दिवसीय महाभिषेक समारोह का शुभारंभ कर दिया गया है। इस मौके पर आयोजन समिति के अध्यक्ष जगदीश बहुगुणा, महासचिव हिमेन्द्र कुंवर, कोषाध्यक्ष बलवंत भंडारी, आचार्य नागेन्द्र तिवारी, चिंतामणि सेमवाल, प्रताप लूथरा, हरीश ड्यूडी, अरुण मैठाणी, विजयेश नवानी, वीरेंद्र प्रभु, विजय चमोला, नरेश बरमोला और नवीन बहुगुणा मौजूद थे।

Related posts

मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों को दी छठ पूजा की शुभकामना*

prabhatchingari

द पोली किड्स देहरादून के नन्हे-मुन्ने बच्चों ने जन्माष्टमी के उत्सव पर गोकुल के विभिन्न झांकियों को प्रस्तुत किया

prabhatchingari

सेना के जवान व गुरूद्वारा ट्रस्ट के सेवादार बर्फ के बीच से रास्ता बनाते हुऐ श्री हेमकुण्ट साहिब की पवित्र धरती पर पहुंचें

prabhatchingari

प्रभु की भक्ति से मिलता है परम सुख:-आचार्य पवन नंदन जी महाराज……

prabhatchingari

श्रावण मास में शिव पूजा का धार्मिक और वैज्ञानिक महत्व

prabhatchingari

डीएम चमोली ने 18  किलोमीटर पैदल चलकर हेमकुंड यात्रा व्यवस्थाओं का लिया जायजा।

prabhatchingari

Leave a Comment